वाक्य की परिभाषा और उसके भेद


वाक्य की परिभाषा 

शब्दों के सुव्यवस्थित और सार्थक पद समूह से भाव या विचार की पूर्ण अभिव्यक्ति को वाक्य कहते हैं | 

उदाहरण :- 
1.राम ने रावण का वध किया |
2. चालक लोमड़ी ने कहा, अंगूर खट्टे हैं |

वाक्य के दो अंग होते हैं -
1. उद्देश्य (Subject)
2. विधेय (Predicate)


उद्देश्य 
वाक्य के अंतर्गत जिसके विषय में बताया जा रहा है, अर्थात कर्ता और कर्ता विस्तार, जिनके विषय में कुछ कहा जा रहा है , उद्देश्य कहलाता है |
उदाहरण 
1. माताजी खाना बना रही है |
2. सोहम सिनेमा देखने गया | 
उपर्युक्त वाक्यों में माताजी और सोहम ऐसे शब्द हैं, जिनके विषय में कहा जा रहा है | अतः इन दोनों शब्दों को कर्ता (subject) कहा जाता है |

विधेय
उद्देश्य के विषय में जो कुछ कहा जाता है, उसे विधेय कहते हैं | विधेय के अंतर्गत क्रिया और कर्म आदि का प्रयोग किया जाता है |
उदाहरण :-
1. मेरी बहन बहुत होशियार है |
2. सुरेश फूलों की माला बनाता है |
उपर्युक्त वाक्यों में कपड़ों बहुत होशियार है तथा माला बनता है आदि वाक्य विधेय कहलाते हैं |

वाक्यों के भेद  (Kinds of Sentences)
वाक्यों में भेद मुख्यतः दो आधारों पर किए जा सकते हैं , जो इस प्रकार हैं 
 
अर्थ के आधार पर रचना के आधार पर 
विधानवाचक (Imperative) साधारण वाक्य
(Simple Sentence)
प्रश्नवाचक
(Interrogative)
संयुक्त वाक्य
(Compound Sentences)
निषेधवाचक
(Negative)
मिश्रित वाक्य
(Complex Sentences)
संकेतवाचक (Indicative)  
विस्मयादिवाचक (Interjective)  
संदेहवाचक (Doubtful)  
आज्ञावाचक
(Denoting Order)
 
इच्छावाचक
(Denoting Desire) 
 


विधानवाचक वाक्य (Imperative Sentences) :- जिस वाक्य से किसी बात के होने का या काम के करने का बोध हो, 
उदाहरण :- 
1. पिताजी खा चुके हैं |
2. वह मेरी बहन है |


प्रश्नवाचक (Interrogative) :-जिस वाक्य में किसी प्रकार के प्रश्न किए जाने का बोध हो |
उदाहरण :-
1. तुम क्या कर रहे हो ?
2. तुम्हारा घर कहाँ है ?


निषेधवाचक (Negative) :- जिस वाक्य से किसी बात से या किसी काम के न होने का बोध हो,
उदाहरण :-
1. राधा ने पाठ याद नहीं किया |
2. आज रमेश ऑफिस नहीं आया है | 


संकेतवाचक (Indicative) :- जहाँ एक वाक्य में कार्य दूसरे वाक्य के कार्य पर निर्भर हो, 
उदाहरण :-
यदि अधिक वर्षा होती, तो फसल अच्छी होती |
आज दूधवाला नहीं आएगा, तो चाय कैसे बनेगी |


विस्मयादिवाचक (Interjective) :- जिस वाक्य से हर्ष, शोक, आश्चर्य, दुख, सुख आदि का बोध हो, 
उदाहरण :-
वाह ! मज़ा आ गया |
अरे ! यह क्या हो गया |


संदेहवाचक (Doubtful) :- जिस वाक्य के द्वारा किसी काम या बात के होने में संदेह का बोध हो, 
उदाहरण :-
शायद मैं कल तुम्हारे घर आऊँ |
शायद आज बारिश हो |


आज्ञावाचक (Denoting Order) :- जिस वाक्य से किसी तरह की आज्ञा, आदेश का बोध हो |
उदाहरण :-
1. तुम जाओ |
2. तुम लिखो |


इच्छावाचक (Denoting Desire) :- जिस वाक्य से किसी प्रकार की इच्छा, आशीर्वाद, शुभकामना आदि का बोध हो 
उदाहरण :-
सदा सुखी रहो !
ईश्वर तुम्हारी सहायता करे |

 

Hindi Grammar

time: 0.0232839584