मुहावरे (Idioms)


मुहावरे

जो वाक्यांश अपने साधारण अर्थ से भिन्न एक विशेष अर्थ देते हैं , मुहावरे कहलाते हैं |
कुछ मुहावरे और उनका वाक्य में प्रयोग –

'अ' से शुरू होने वाले मुहावरे 

अक्ल पर पत्थर पड़ना - सोचसमझकर किसी कार्य को न करना 
वाक्य - सोहम की अक्ल पर पत्थर पड़ गए थे जो उसने इतनी सस्ती किताब अधिक कीमत देकर खरीदी |

अक्ल मारी जाना - बुद्धि नष्ट होना 
वाक्य - परीक्षा नज़दीक है फिर भी राहुल टी.वी. देखता रहता है लगता है, उसकी अक्ल मारी गई है |

अक्ल का दुश्मन - मुर्ख 
वाक्य - दीपक को कुछ समझ नहीं आता है, वह तो अक्ल का दुश्मन है |

अच्छे दिन आना - भाग्य चमकना
वाक्य - सुरेश की नौकरी लगने से उसके अच्छे दिन आ गये हैं |

अपना उल्लू सीधा करना - स्वार्थ सिद्ध करना |
वाक्य - आजकल हर कोई अपना उल्लू सीधा करना चाहता है |

आकाश से तारे तोड़ना - असंभव कार्य करना |
वाक्य - कर्मवीर व्यक्ति अपने परिश्रम से आकाश के तारे भी तोड़ लाते हैं |

आकाश - पाताल एक करना - अधिक परिश्रम करना
वाक्य - मोहित ने परीक्षा में प्रथम आने के लिए आकाश पाताल एक कर दिया था |

आकाश को छूना - बहुत ऊँचे उठना
वाक्य -  आजकल शहरों में बन रही इमारतें आकाश को छू रही हैं |

आटे में नमक - बहुत कम 
वाक्य -  रमेश सौदे में उतना ही लाभ कमाता है, जितना आटे में नमक |

आपे से बाहर होना - बहुत क्रोधित होना 
वाक्य -  रोज़ - रोज़ पड़ोसियों की शिकायतें सुनकर मोहन की माँ आपे से बाहर हो गई |

आसमान सर पर उठाना - बहुत शोर करना |
वाक्य - कक्षा में अध्यापक के न होने पर बच्चे आसमान सिर पर उठा लेते हैं |

आसमान पर थूकना - श्रेष्ठ व्यक्तियों का अपमान करना |
वाक्य - अंकित ने अध्यापक की निंदा करके आसमान पर थोका है | 

आसमान से बातें करना - ऊँचाई पर पहुँचना |
वाक्य - बड़े शहरों में इमारतें आसमान से बातें करती नज़र आती हैं |

ओखली में सिर देना - जानबूझ कर मुसीबत मोल लेना 
वाक्य - बिना जाने - पहचाने एक व्यक्ति को पैसे देकर मैंने ओखली में सिर दे दिया | 

आँख संबंधी मुहावरे 

आँख उठाकर न देखना - ध्यान न देना 
वाक्य - मैं तुम्हें बुला रहा था, लेकिन तुमने तो आँख उठाकर भी नहीं देखा |

आँखों का तारा - बहुत प्यारा
वाक्य - माँ के लिए उसके बच्चे आँखों के तारे होते हैं| 

आँखों का काँटा - अप्रिय व्यक्ति 
वाक्य - हमे कभी भी किसी की आँखों का काँटा नहीं बनना चाहिए |

आँख दिखाना - क्रोध करना 
वाक्य - अंकित के फ़ैल हो जाने पर उसके पिताजी उसे आँख दिखा रहे थे |

आँखें खुलना - होश में आना 
वाक्य - जुए में सब कुछ हारने के पश्चात ही नितेश की आँखे खुलीं  |

आँखें चुराना - कतराना 
वाक्य - विपत्ति में मित्र से आँखें चुराने वाले सच्चे मित्र नहीं हो सकते |

आँखें बिछाना - स्वागत करना 
वाक्य - मेहमान के आने पर आँखें बिछाना भारतीय परंपरा है |

आँखों पर परदा पड़ना - भला - बुरा न समझना 
वाक्य -  माता - पिता के समझाने पर भी सतीश ने शरारती लड़कों का साथ नहीं छोड़ा क्योंकि उसकी आँखों पर तो परदा पड़ा हुआ है |

आँखें फेर लेना - बदल जाना 
वाक्य - सुरेश और रमेश बहुत अच्छे मित्र थे, पर आजकल एकदूसरे को देखकर आँखें फेर लेते हैं |

आँखों से गिरना - सम्मान खो देना 
वाक्य - सुरेश चोरी करके सबकी आंखों से गिर गया है |

आँखों में धूल झोंकना - धोका देना 
वाक्य -  डाकू खड्गसिंह बाबा भारती की आंखों में धूल झोंककर उनके घोड़े सुलतान को ले उड़ा |

आँखों में नींद उतरना - नींद आना
वाक्य - बिस्तर पर जाते ही आँखों में नींद उतरने लगती है |

आँचल पसारना - भीख माँगना 
वाक्य - गरीब सभी के सामने अपना आँचल पसारता है |

अंक में भरना - गले लगाना या गोद में बैठा लेना  
वाक्य- जब सोहम की मम्मी ऑफिस से आती है, सोहम को अंक में भर लेती है |

अंग - अंग टूटना - बहुत थक जाना 
वाक्य- रीना की शादी में उसके पिताजी का अंग - अंग टूट रहा था |

अंग - अंग मुसकराना - बहुत खुश होना 
वाक्य- अखिलेश के दौड़ में प्रथम आने पर उसका अंग- अंग मुसकराने लगा |

अंगारे उगलना - बहुत क्रोधित होना 
वाक्य-  मुहूर्त से पहले ही नए घर के शीशे टूटने से पिता जी अंगारे उगलने लगे |

अंधों में काना राजा - मूर्खों में थोड़ा चतुर 
वाक्य - पूरे गाँव में नीलेश ही थोड़ा पढ़ा-लिखा होने के कारण वह अंधों में काना राजा है |

अंधे की लकड़ी - एकमात्र सहारा 
वाक्य - श्रवण कुमार अपने माता - पिता की अंधे की लकड़ी था |

अँधेरे घर का उजाला - एकमात्र होनहार संतान 
वाक्य - रामू के घर में सिर्फ उसका बेटा रमेश ही कमाता है वह अँधेरे घर का उजाला है | 

'ई' से शुरू होने वाले मुहावरे 

ईद का चाँद होना - बहुत दिनों बाद दिखाई देना 
वाक्य - रीना तो आजकल ईद का चाँद हो गई है |

इधर - उधर की हाँकना - व्यर्थ की बातें करना 
वाक्य - रमेश कुछ नहीं करता, सिर्फ इधर - उधर की हाँकता रहता है |

ईंट से ईंट बजाना - नाश कर देना 
वाक्य -  भारतीय सेना ने कारगिल में पाकिस्तानी सेना की ईंट से ईंट बजा दी |

ईंट का जवाब पत्थर से देना - कठोर जवाब देना 
वाक्य - वार्षिक परीक्षा में रोहित ने मोहित को ईंट का जवाब पत्थर से दिया |

'उ' से शुरू होने वाले मुहावरे 

उंगली उठाना - बदनाम करना 
वाक्य - किसी पर भी उंगली उठाने से पहले स्वयं का आकलन करना चाहिए |

ऊँट के मुँह में ज़ीरा - आवश्यकता से कम 
वाक्य - किसी व्यक्ति को उसकी आवश्यकता से बहुत कम वस्तु देना ऊँट दे मुँह में ज़ीरे के समान है |

उल्लू बनाना - मुर्ख बनाना 
वाक्य - स्वार्थी व्यक्ति सदैव दूसरों को उल्लू बनाकर अपना स्वार्थ सिद्ध करते हैं |

उल्टी गंगा बहाना - विपरीत कार्य करना 
वाक्य - अंकित कभी भी सही कार्य नहीं करता, सदैव उल्टी गंगा बहाता है |

उन्नीस - बीस का अंतर - बहुत कम अंतर 
वाक्य - राम - श्याम दोनों भाइयों में सिर्फ उन्नीस - बीस का अंतर है |

'ए' से शुरू होने वाले मुहावरे 

एक और एक ग्यारह - संगठन में शक्ति होना
वाक्य - वे चारों दोस्त एक हैं | सभी उनसे डरते हैं | क्योंकि एक और एक ग्यारह होते हैं | 

एक पंथ दो काज - एक प्रयत्न से दो कार्य करना 
वाक्य - मुंबई जाकर सुरेश से भी मिल लूँगा और साथ ही डॉक्टर को भी दिखा दूँगा | इसे कहते हैं, एक पंथ दो काज | 

एक थाली के चट्टे - बट्टे - एक समान होना 
वाक्य - इस क्लास के सारे बच्चे बहुत शैतान हैं | सभी एक थाली के चट्टे - बट्टे हैं |

एक आँख न भाना  - बिल्कुल पसंद न करना 
वाक्य - मुझे हिंसा करने वाले लोग एक आँख नहीं भाते हैं |

एक हाथ से ताली न बजना - दोनों पक्षों का दोष होना 
वाक्य - झगड़ा हमेशा दोनों पक्षों की गलती के कारण होता है, एक हाथ से ताली कभी नहीं बजती |

एड़ी चोटी का ज़ोर लगाना - बहुत परिश्रम करना 
वाक्य - रश्मि ने  C.A. की परीक्षा पास करने के लिए एड़ी चोटी का ज़ोर लगा दिया |

'क' से शुरू होने वाले मुहावरे 

कब्ज़ा कर लेना - अधिकार में लेना |
वाक्य - दुष्ट सेनापति ने राजसिंहासन पर कब्ज़ा कर लिया |

कलेजा ठंडा होना - शांति, संतोष कर लेना 
वाक्य - सरकार के अल्पमत होने से विपक्षियों का कलेजा ठंडा हो गया | 

कलेजे पर साँप लोटना - ईर्ष्या से जल उठना 
वाक्य - रोहन को पुरस्कार मिलने पर राजेश के कलेजे पर साँप लोट गया | 

काला अक्षर भैंस बराबर - बिलकुल अनपढ़
वाक्य - उस मज़दूर के लिए काला अक्षर भैंस बराबर है | 

कमर  संबंधी मुहावरे 

कमर कसना - तैयार रहना 
वाक्य - बोर्ड की परीक्षा के लिए बच्चो को अपनी कमर कस लेनी चाहिए |

कमर टूटना - हिम्मत टूटना 
वाक्य - व्यापार में घाटा हो जाने से सुरेश की कमर ही टूट गई है |

कमर सीधी करना - थकान मिटाना 
वाक्य - उस किसान को देखो, सुबह से श्याम तक काम करता है एक मिनट के लिए भी उसे कमर सीधी करने की फुरसत नहीं मिल पाती है |  

कान संबंधी मुहावरे 

कान का कच्चा - किसी के भी कहने में आ जाना |
वाक्य - अच्छा ही हुआ कि रमेश का तबादला हो गया | वह कान का बड़ा कच्चा था | 

कान कतरना - बहुत चालाक होना |
वाक्य - आजकल के बच्चे बड़े - बड़ों के कान कतरते हैं |

कान बहरे होना - ध्यान न देना या अनसुनी करना 
वाक्य - समीर के लिए सभी मित्रों ने न जाने अपने कान क्यों बहरे कर लिए हैं ? 
 
कान पर जूँ न रेंगना - कोई ध्यान न देना |
वाक्य - जब शिक्षक पढ़ा रहे थे तब मेरे दोस्त के कान पर जूँ तक भी नहीं रेंग रही थी | 

कानों कान खबर न होना - बिलकुल भी मालूम न होना 
वाक्य -  अपनी योजना पर काम करो पर ख्याल रहे कि किसी को कानों कान खबर न हो |

'ख' से शुरू होने वाले मुहावरे 

खाक में मिलना - नष्ट करना 
वाक्य - जो दूसरों का बुरा सोचते हैं, वह स्वयं खाक में मिल जाते हैं |

खाक छानना - खूब ढूँढ़ना 
वाक्य - राजेंद्र अच्छी नौकरी पाने के लिए खाक छान रहा है, किन्तु उसे नौकरी मिल ही नहीं रही है |

खटाई में पड़ना - काम में रुकावट आना 
वाक्य - बाढ़ आ जाने के कारण पुल बनाने का काम खटाई में पड़ गया |

खरी - खोटी सुनना - बुरा - भला कहना 
वाक्य - भगवान राम का पक्ष लेने ने कारण रावण ने विभीषण को खरी - खोटी सुनाई |

खिल्ली उड़ाना - व्यंग्य करना 
वाक्य - सुमित जब देखो तब रमेश की खिल्ली उड़ाता रहता है |

खून खौलना - क्रोध आना 
वाक्य - अमर्यादित कार्यों को देखकर मेरा खून खौलने लगता है | 

खुशी के मारे पागल होना - अत्याधिक प्रसन्न होना 
वाक्य -  जैसे ही रमेश को पता लगा की वह पुरे राज्य में प्रथम आया है, वह तो खुशी के मारे पागल ही हो गया | 

खुशी का ठिकाना न रहना - अत्याधिक प्रसन्न होना |
वाक्य - सीमा को टी.वी में देखते ही पुरे गाँव वालो के खुशी का ठिकाना न रहा |

ख़्याली पुलाव पकाना - कल्पना करते रहना 
वाक्य - अमिता को काम - धाम तो आता नहीं है, बस ख़्याली पुलाव पकाया करती है |

खून का घूँट पीना - क्रोध को भीतर ही दबाना 
वाक्य - मेरी गलती न होने पर भी मुझे पर इल्ज़ाम लगाया गया, तब भी मैं खून का घूँट पीकर रह गयी |

'ग' से शुरू होने वाले मुहावरे 

गुड़ - गोबर करना - बने बनाए काम को बिगाड़ देना 
वाक्य - अचानक आई वर्षा के कारण शादी का पूरा कार्यक्रम गुड़ - गोबर होकर रह गया |

गोबर गणेश - बिलकुल मुर्ख |
वाक्य - बार- बार समझाने पर भी राहुल प्रश्न का हल नहीं कर पाता है, वह बिलकुल गोबर गणेश है |

गरदन संबंधी मुहावरे 

गरदन झुकना - लज्जित होना 
वाक्य - चरित्रहीन व्यक्ति एक दिन सारे परिवार की ही गरदन झुका देता है |

गरदन पर सवार होना - पीछे पड़ जाना 
वाक्य - अक्षय की मदद क्या कर दी, जब देखो मेरी गरदन पर ही सवार हुआ रहता है |

गले संबंधी मुहावरे 

गले का हार - अतयंत प्रिय
वाक्य - बच्चे माता - पिता के गले का हार होते हैं |

गले पड़ना - पीछे पड़ जाना 
वाक्य - तुम्हें एक बार उधार क्या दे दिया, जब देखो मेरे गले ही पड़े रहते हो | 
 
'घ' से शुरू होने वाले मुहावरे 

घर में गंगा बहना - सुविधा होना 
वाक्य - रानी के माता पिता बहुत शिक्षित हैं, उसे कभी भी किसी और शिक्षक की आवश्यकता नहीं पड़ती है | उसके तो घर में गंगा बहती है | 

घाट- घाट का पानी पीना - बहुत अनुभवी होना |
वाक्य - महेश तुम अपने गुरूजी से झूठ नहीं बोल सकते हो, वह घाट - घाट का पानी पिए हुए हैं |

घाव पर नमक छिड़कना - दुःख को और बढ़ा देना 
वाक्य -  रोहिणी में मानवता नाम की चीज़ नहीं है, वह तो बस घाव पर नमक छिड़कना जानती है |

घी के दीये जलना - बहुत खुशी मनाना |
वाक्य - श्री राम के अयोध्या वापस लौटने पर अयोध्यावासियों ने घी के दीये जलाए | 

घोड़े बेचकर सोना - निश्चिन्त होकर सोना 
वाक्य - विनय परीक्षा का समय निकट है, फिर भी जब देखो घोड़े बेचकर सोते रहते हो |

'च' से शुरू होने वाले मुहावरे 

चकमा देना - धोका देना
वाक्य - चोर पुलिस को चकमा देकर कोसों दूर चला गया |

चार चाँद लगाना - शोभा बढ़ाना |
वाक्य - वर्ल्ड कप जीतकर क्रिकेटर्स ने भारत की प्रसिद्धि में चार चाँद लगा दिए हैं |

चाँद पर थूकना - निर्दोष पर दोष लगाना |
वाक्य - पतिव्रता स्त्री के चरित्र पर संदेह करना चाँद पर थूकना ही है |

चैन की बंशी बजाना - बेफिक्र हो जाना |
वाक्य - जैसे ही परीक्षा समाप्त हो गई | सभी बच्चे चैन की बंशी बजाने लगे | 

चिकना घड़ा - कुछ असर न होना
वाक्य - राजेश को कितना भी डॉटो उसपर कोई असर नहीं होता , वह तो चिकना घड़ा है |

चौकड़ी भरना - छलाँग लगाना 
वाक्य - माँ को देखती ही बछड़ा खूब चौकड़ी भरता है | 

'छ' से शुरू होने वाले मुहावरे

छक्के छुड़ाना - बुरी तरह हराना |
वाक्य - हमने उन्हें हराकर उनके छक्के छुड़ा दिए थे| 

'ज' से शुरू होने वाले मुहावरे

जान पर खेलना - अपनी जान जोखिम में डालना
वाक्य - देशभक्त नौजवान जान पर खेल कर देश की रक्षा करते हैं | 

जी चुराना - काम से बचने के बहाने ढूँढ़ना
वाक्य - बच्चे सदा पढ़ाई से जी चुराते हैं |

'झ' से शुरू होने वाले मुहावरे

झख मारना - लाचार होना 
वाक्य -  रोहन इस समय केवल झख मरता है |

'ट' से शुरू होने वाले मुहावरे

टस - से - मस न होना - कुछ भी असर न होना |
वाक्य - कितना भी चिल्लाया पर सुरेश तो टस - मस न हुआ |

टूट पड़ना - आक्रमण करना
वाक्य - स्कूल से आते ही मैं खाने पर टूट पड़ता हूँ |

'ड' से शुरू होने वाले मुहावरे

डकार न लेना - रुपया मार लेना 
वाक्य - राकेश ने अपने दोस्त से 10,000 रुपये लिए थे, परंतु आज तक डकार नहीं लिया |

डंके की चोट पर - निर्भीक होना 
वाक्य -  मेरी बात सत्य है, मैं डंके की चोट पर कहता हूँ |

'त' से शुरू होने वाले मुहावरे

तलवे चाटना - खुशामद करना 
वाक्य - मीना का अपना कोई व्यक्तित्व नहीं है | वह सदा बॉस के तलवे चाटती रहती है |

तारे गिनना - व्यग्रतापूर्वक प्रतीक्षा करना |
वाक्य - विदेश गए बेटे के लौटने के इंतज़ार में माँ तारे गिन - गिनकर समय निकाल रही है |

तिल का ताड़ करना - छोटी सी बात को बढ़ा - चढ़ाकर कहना 
वाक्य -  राधिका की तो आदत है, तिल का ताड़ बनाने की |

'द' से शुरू होने वाले मुहावरे

दाल में काला होना - संदेह की बात होना 
वाक्य - पड़ोसी के घर में पुलिस को आया देख मैंने सोचा, अवश्य दाल में कुछ काला है |

दाँत संबंधी मुहावरे 

दाँत पीसना - बहुत क्रोधित होना 
वाक्य - नौकर द्वारा नया कपड़ा जल जाने पर मालकिन दाँत पीसने लगी |

दाँत खट्टे करना - बुरी तरह पराजित करना 
वाक्य - क्रिकेट मैच में भारतीय खिलाड़ियों ने पाकिस्तानी खिलाड़ियों के दाँत खट्टे कर दिए |

दाँतों तले अंगुली दबाना - आश्चर्यचकित होना  
वाक्य - ताजमहल के अद्वितीय सौंदर्य को देखकर विदेशी पर्यटक दाँतों तले अंगुली दबा लेते हैं |

'न' से शुरू होने वाले मुहावरे

नौ दो ग्यारह होना - भाग जाना
वाक्य - बिल्ली को देखते ही चूहा नौ दो ग्यारह हो गया |

नाक संबंधी मुहावरे 

नाक कटना - प्रतिष्ठा कम होना
वाक्य - एक नामी पहलवान ने हारकर अपनी नाक कट वाली |

नाक काटना - प्रतिष्ठा समाप्त होना 
वाक्य - दहेज माँगने पर लड़की के पिता ने लड़के वालों को जेल की ऐसी हवा खिलाई कि बेचारों की नाक ही कट गई |

नाक - भौं चढ़ाना - घृणा दर्शाना 
वाक्य - माँ जब भी सुरेश को खाने में करेला देती है तो वह नाक - भौं चढ़ाने लगता है |

नाक में दम करना - बहुत तंग करना 
वाक्य - बच्चे अपनी शरारतों से माता - पिता की नाक में दम कर देते हैं |

नाकों चने चबाना - बहुत परेशान करना 
वाक्य - ताँत्या टोपे ने अंग्रेजों को नाकों चने चबवा दिए थे |

नाक रखना - मान रखना 
वाक्य - पिता द्वारा ली धनराशि ब्याज सहित चुकाकर पुत्र ने अपने परिवार की नाक रख ली |

'प' से शुरू होने वाले मुहावरे

पत्थर की लकीर -  पक्की बात
वाक्य -  मेरी बात को पत्थर की लकीर समझो, क्योंकि मैं तुम्हें धोखा नहीं दूँगा |

परलोक सिधारना - मृत्यु को प्राप्त होना 
वाक्य - दुर्घटना के बाद वह आदमी परलोक सिधार गया |

पहाड़ टूटना - भारी मुसीबत आना 
वाक्य -  गीता के पिता की मृत्यु होने से उसके ऊपर तो दुखों का पहाड़ ही टूट पड़ा है |

पीठ दिखाना - पीछे हटना 
वाक्य - भारतीय सैनिक मर जाएँगे, परंतु शत्रु को पीठ नहीं दिखाएँगे |

'फ' से शुरू होने वाले मुहावरे

फूला न समाना - बहुत प्रसन्न होना
वाक्य - प्रथम आने का समाचार सुनकर मैं फूला नहीं समाया |

'ब' से शुरू होने वाले मुहावरे

बाल बाँका न होना - कुछ भी न बिगड़ना |
वाक्य - सोहम बहुत ऊपर से नीचे आ गिरा , पर उसका बाल भी बाँका नहीं हुआ |

बाएँ हाथ का खेल - आसान काम 
वाक्य - इस प्रश्न - पत्र को हल करना तो मेरे बाएँ हाथ का खेल है |

'भ' से शुरू होने वाले मुहावरे

भीगी बिल्ली बनना - डरकर दब जाना
वाक्य - अध्यापक को देखते ही बच्चे भीगी बिल्ली बन जाते हैं |

मुँह संबंधी मुहावरे 

मुँह में पानी आना - ललचाना 
वाक्य - गरम जलेबी देखते ही मोहन के मुँह में पानी आ गया |

मुँह में खून लगना - बुरी आदत पड़ जाना 
वाक्य - महेश लाख कोशिश के बावजूद शराब पीना नहीं छोड़ सकता, क्योंकि उसके मुँह में खून लग चूका है |

मुँह की खाना - हार जाना 
वाक्य - कारगिल युद्ध में मुँह की खाने के बाद भी पाकिस्तान नहीं सुधरा |

मुँह पर कालिख पोतना - कलंकित करना 
वाक्य - आखिर वही हुआ जिसका डर था | सुरेश ने माता - पिता के मुँह पर कालिख पोत दी | 

'र' से शुरू होने वाले मुहावरे

रग - रग में हिम्मत भरना - अत्याधिक साहसी होना 
वाक्य - सैनिकों के रग - रग में हिम्मत होती हैं |

रंग में भंग पड़ना - खुशी में बाधा पड़ना 
वाक्य - गणेशोत्सव में वर्षा होने से रंग में भंग पड़ गया |

राई का पहाड़ बनाना - छोटी सी बात को बढ़ा - चढ़ाकर कहना 
वाक्य - बात बहुत छोटी - सी थी, परंतु तुमने राई का पहाड़ बनाकर अच्छा नहीं किया |

रात-दिन एक करना - कठिन परिश्रम करना
वाक्य - मेरे माता और पिता मेरी अच्छाई के लिए रात-दिन एक कर देते हैं |

'ल' से शुरू होने वाले मुहावरे

लोहे के चने चबाना - कठिन काम करना
वाक्य - सी.ए की परीक्षा देना लोहे के चने चबाने जैसा है |

लाल पीला होना - बहुत गुस्सा होना
वाक्य - संजय के फेल हो जाने पर उसके पिताजी लाल - पीले हो गए |

'स' से शुरू होने वाले मुहावरे

सुख-दुःख का साथी - घनिष्ठ मित्र
वाक्य - राम मेरा सुख-दुःख का साथी है |

सिर पर पाँव रख कर भागना - तीव्र गति से भागना 
वाक्य - बिल्ली को देखते ही चूहा सिर पर पाँव रख कर भाग जाता है | 

'ह' से शुरू होने वाले मुहावरे

हिम्मत न हारना - साहस न छोड़ना
वाक्य - मुसीबत के समय हिम्मत नहीं हारनी चाहिए |

हिम्मत जवाब देना - हार मान लेना 
वाक्य - शेर को देखते ही मुकेश की हिम्मत जवाब दे गई | 

हौसला पस्त होना - हिम्मत हारना 
वाक्य - सुरेश की परेशानियों ने उसका हौसला पस्त कर दिया है |

हाथ बँटाना - काम में मदद करना |
वाक्य - पायल हमेशा घर के काम में हाथ बाँटती है | 

हाथ पर हाथ रखकर बैठ जाना - खाली बैठना 
वाक्य - हाथ पर हाथ रखकर बैठ जाने से समस्या का हल नहीं होता है |

हाथ पैर फूलना - घबरा जाना 
वाक्य - गीता के ज़रा सी बात पर हाथ - पैर फुल जाते है |

हाथ पाँव ढीले पड़ना - शरीर शिथिल होना |
वाक्य - पहाड़ पर चढ़ते - चढ़ते उसके हाथ पाँव ढीले पड़ने लगे |

मुहावरे के बारे में अपने ज्ञान का परीक्षण करें और उसके लिए नीचे दिए गए Exercise sets पर क्लिक करें | (Test your knowledge about Hindi Muhavare for this Please click on Exercise Sets given below )

Hindi Grammar

time: 0.0155668259