क्रिया विशेषण (Adverb)


ताजमहल वहाँ आगरा में है |
वह अचानक गिर पड़ा |
लड़की धीरे - धीरे बोलती है |

दिए गए उदाहरणों में वहाँ, अचानक, धीरे - धीरे शब्द क्रिया की विशेषता बताते हैं, अतः हम इन्हें क्रिया - विशेषण कहते हैं |

क्रिया विशेषण की परिभाषा :- जो अविकारी शब्द क्रिया की विशेषता बताते हैं, उन्हें क्रिया - विशेषण कहते हैं |
उदाहरण :-
सुन्दर लिखना 
तेज़ दौड़ना 
मीठा गाना
रात भर पढ़ना
आगे - आगे चलना 
थोड़ा हँसना
अचानक गिरना 

कुछ क्रिया विशेषण शब्द :- अभी, रात भर, बिलकुल, चौंककर, आर- पार, आस - पास, तत्काल, पश्चात, अवश्य, जल्दी - जल्दी , प्रतिदिन आदि | 

क्रिया विशेषण के भेद (Kinds of Adjective):-

क्रिया विशेषण के चार भेद होते हैं। 
- कालवाचक क्रिया विशेषण (Adverb of Time)
- स्थानवाचक क्रिया विशेषण (Adverb of Place)
- परिमाणवाचक क्रिया विशेषण (Quantitative Adverb)
- रीतिवाचक क्रिया विशेषण (Adverb of Manner)


कालवाचक क्रिया विशेषण - 
उदाहरण :-
वह प्रतिदिन व्यायाम करता है |
मैं रोज़ पढ़ता हूँ |
ऊपर दिए गए वाक्यों में ‘प्रतिदिन’ तथा ‘रोज़’ कालवाचक क्रिया विशेषण शब्द है |
परिभाषा :- जो क्रिया विशेषण शब्द क्रिया के होने के समय की सूचना देते हैं, वे कालवाचक क्रिया विशेषण शब्द कहलाते हैं | जैसे दिनभर, रोज़, अभी, सदैव, कल आदि |

कालवाचक क्रिया विशेषण के भेद -
कालवाचक क्रिया विशेषण के तीन भेद होते हैं -
काल संबंधी - आज, कल, जब, तब, सायं, परसों, प्रातः काल आदि |
अवधि संबंधी - सदैव, सुबह से श्याम, दिनभर, रातभर, लगातार आदि |
बारंबारता संबंधी - बार - बार, कई बार, प्रतिदिन, प्रतिमाह आदि |

स्थानवाचक क्रिया विशेषण -
उदाहरण :-
ऊपर जाओ और पतंग वहाँ जाकर उड़ाओ |
रीना बाहर बैठी है |
ऊपर दिए गए वाक्यों में ‘ऊपर’, 'बाहर' तथा ‘वहाँ’ स्थानवाचक क्रिया विशेषण शब्द है |
परिभाषा :- जो क्रिया विशेषण शब्द क्रिया के होने के स्थान या दिशा की सूचना देते हैं, वे स्थानवाचक क्रिया विशेषण शब्द कहलाते हैं | जैसे ऊपर, बाहर, इधर- उधर, यहाँ- वहाँ, सामने, आसपास, मध्य, आर- पार, नीचे, निकट आदि |

स्थानवाचक क्रिया विशेषण के भेद -
स्थानवाचक क्रिया विशेषण के तीन भेद होते हैं -
स्थितिवाचक - यहाँ - वहाँ, भीतर, बाहर, निकट, आगे, आर- पार, मध्य आदि |
दिशावाचक - ऊपर, जिधर, उधर, किधर, नीचे, आमने - सामने, दाहिनी आदि |
विस्तारवाचक - यहाँ से वहाँ तक आदि |

परिमाणवाचक क्रिया विशेषण- 
उदाहरण :-
उतना खाओ जितना आवश्यक है |
मैंने अपने पूरे कपड़े रख लिए हैं |
ऊपर दिए गए वाक्यों में ‘उतना’, 'जितना' तथा ‘पूरे’ परिमाणवाचक क्रिया विशेषण शब्द है |
परिभाषा :- जो क्रिया विशेषण शब्द क्रिया की मात्रा अथवा उसके परिमाण की सूचना देते हैं, वे परिमाणवाचक क्रिया विशेषण शब्द कहलाते हैं | जैसे :- अधिक थोड़ा, कम, ठीक, लगभग, तनिक, उतना, जितना, बारी - बारी आदि |

परिमाणवाचक क्रिया विशेषण के भेद -
परिमाणवाचक क्रिया विशेषण के पाँच भेद होते हैं -
न्यूनतावाचक - तनिक, थोड़ा, जरा आदि |
अधिकतावाचक - अति, ज्यादा, अत्यंत आदि |
पर्याप्तवाचक - पर्याप्त, काफ़ी आदि |
तुलनावाचक - जितना, कितना, उतना आदि |
श्रेणी वाचक - बारी - बारी, थोड़ा - थोड़ा आदि |  

रीतिवाचक क्रिया विशेषण -
उदाहरण :-
बच्चा एकाएक चिल्ला उठा |
रोशनी अचानक छत से गिर पड़ी |
ऊपर दिए गए वाक्यों में ‘एकाएक’ तथा ‘अचानक’ रीतिवाचक क्रिया विशेषण शब्द है |
परिभाषा :- जो क्रिया विशेषण शब्द क्रिया के होने की रीति के विषय में सूचना देते हैं, वे रीतिवाचक क्रिया विशेषण शब्द कहलाते हैं | जैसे :- यथाशक्ति, वस्तुतः, अवश्य, सच, शायद, धीरे से, जल्दी - जल्दी, मात्र, बिल्कुल, कैसे, कभी नहीं, अक्सर, तेज़, मत आदि |

रीतिवाचक क्रिया विशेषण के भेद -
रीतिवाचक क्रिया विशेषण के अनेक भेद होते हैं -
निश्चयवाचक - अवश्य, जरूर, वास्तव में, निस्संदेह आदि |
अनिश्चयवाचक - शायद, बहुधा, संभवतः, प्रायः, कदाचित आदि |
प्रश्नवाचक - क्यों, कहाँ, कैसे आदि |
निषेधवाचक - नहीं, मत आदि |
विधिवाचक - सहसा, सुखपूर्वक, ध्यानपूर्वक, हाथोंहाथ, शीघ्र आदि |
आकस्मिकतावाचक - अचानक, अकस्मात, एकाएक आदि | 


 

time: 0.0185601711