लिंग (Hindi Gender)


लिंग  :-
संज्ञा के जिस रुप से उसके स्त्री या पुरुष जाति के होने का बोध होता है, उसे लिंग कहते हैं | 
लिंग दो प्रकार के होते हैं  - 
पुल्लिंग ( Masculine Gender)
स्त्रीलिंग (Feminine Gender)


पुल्लिंग - संज्ञा के जिस रूप से उसके पुरुष जाति के होने का बोध होता है, उसे पुल्लिंग कहते हैं I 
जैसे :- पिता, मोर, घोडा, कमरा, बन्दर आदि |
स्त्रीलिंग - संज्ञा के जिस रूप से उसके स्त्री जाति के होने का बोध होता है, उसे स्त्रीलिंग कहते हैं I 
जैसे :-माता, मोरनी , घोड़ी, बंदरिया आदि |

कुछ पुल्लिंग और स्त्रीलिंग शब्द -

'अ' को 'आ' से बदलकर -  
 
पुल्लिंग स्त्रीलिंग  
अध्यक्ष  अध्यक्षा
अग्रज  अग्रजा 
आचार्य आचार्या 
कुमार  कुमारी 
गज  गजा
छात्र छात्रा
तनुज  तनुजा 
प्रिय प्रिया  
पूज्य  पूज्या
बाल बाला 
भवदीय भवदीया  
मूर्ख  मूर्खा 
महोदय   महोदया 
वृद्ध वृद्धा 
श्याम  श्यामा 
शिष्य  शिष्या
सुत सुता 

'आ' को 'ई' में बदलकर -
 
पुल्लिंग स्त्रीलिंग  
काका  काकी 
काला काली 
गीदड़  गीदड़ी 
गधा  गधी
घोड़ा घोड़ी 
चाचा   चाची
छोरा  छोरी 
तरुण  तरुणी 
देव देवी 
दादा  दादी 
दास दासी 
नर नारी 
नाना नानी 
नाला  नाली 
पहाड़  पहाड़ी 
पुत्र  पुत्री 
बकरा     बकरी 
बेटा बेटी
ब्राह्मण ब्राह्मणी 
मामा मामी
मुरगा मुरगी
मौसा  मौसी 
मृग मृगी
रस्सा   रस्सी 
लड़का  लड़की  

'आ' को 'इया' में बदलकर -
 
पुल्लिंग स्त्रीलिंग  
कुत्ता  कुतिया
खाट खटिया
गुड्डा गुड़िया 
चूहा   चुहिया 
चिड़ा      चिड़िया
डिब्बा  डिबिया
बाग  बगिया  
बेटा  बिटिया 
बंदर  बंदरिया 
बछड़ा  बछिया 
बूढ़ा बुढ़िया 
मुन्ना मुनिया 
लोटा  लुटिया 

'अक' को 'इका' में बदलकर -
 
पुल्लिंग स्त्रीलिंग  
अध्यापक   अध्यापिका 
दर्शक  दर्शिका 
धावक  धाविका 
नायक  नायिका 
नाटक     नाटिका 
परिचायक  परिचायिका 
पाठक पाठिका 
प्रचारक  प्रचारिका
प्राध्यापक  प्राध्यापिका 
बालक   बालिका
याचक  याचिका 
लेखक  लेखिका
शिक्षक  शिक्षिका
सेवक  सेविका

'अंत' में 'आनी' लगाकर  -
 
पुल्लिंग स्त्रीलिंग  
इंद्र         इंद्राणी   
चौधरी   चौधरानी 
जेठ    जेठानी 
देवर  देवरानी
नौकर  नौकरानी
ब्राह्मण ब्राह्मणी 
भव भवानी
महाराजा  महारानी  
मेहतर मेहतरानी 
मास्टर  मास्टरनी 
मुगल मुगलानी 
सेठ  सेठानी 
राजपूत  राजपूतानी
रुद्र रुद्राणी  
क्षत्रिय  क्षत्राणी 

'ई' को 'इनी' लगाकर  -
 
पुल्लिंग स्त्रीलिंग  
अधिकारी  अधिकारिणी
अभिमानी  अभिमानिनी  
एकाकी     एकाकिनी  
तपस्वी   तपस्विनी 
मनोहारी मनोहारिणी 
यशस्वी यशस्विनी 
स्वामी   स्वामिनी 
संन्यासी  संन्यासिनी
हंस  हंसिनी
हाथी    हथिनी    

'वान' को 'वती' लगाकर  -
 
पुल्लिंग स्त्रीलिंग  
गुणवान  गुणवती
धनवान    धनवती
पुत्रवान    पुत्रवती
प्राणवान  प्राणवती
बलवान    बलवती  
बीरवान बीरवती 
भगवान       भगवती       
भाग्यवान  भाग्यवती
रूपवान  रूपवती 
शक्तिवान  शक्तिवती
सत्यवान सत्यवती 
ज्ञानवान   ज्ञानवती

'मान' को 'मती' लगाकर  -
 
पुल्लिंग स्त्रीलिंग  
श्रीमान  श्रीमती 
आयुष्मान  आयुष्मती
बुद्धिमान     बुद्धिमती 
महान    महती 
शक्तिमान  शक्तिमती 

'ता' को 'त्री' लगाकर 
 
पुल्लिंग स्त्रीलिंग  
अभिनेता अभिनेत्री 
कर्ता  कर्त्री
दाता दात्री
धाता धात्री 
नेता   नेत्री  
निर्माता निर्मात्री 
प्रबंधकर्ता  प्रबंधकर्त्री
भर्ता  भर्त्री
रचयिता      रचयित्री 
वक्ता वक्त्री  
विधाता   विधात्री 

'अंत' में 'इन' लगाकर  -
 
पुल्लिंग स्त्रीलिंग  
कहार कहारिन
कुम्हार     कुम्हारिन 
ग्वाला  ग्वालिन 
जुलाहा  जुलाहिन
तेली तेलिन
धोबी  धोबिन
नाई  नाइन
नाग  नागिन 
नाती   नातिन 
पापी  पापिन 
बाघ  बाघिन 
भिखारी   भिखारिन   
मल्लाह  मल्लाहिन 
माली   मालिन 
सुनार         सुनारिन
लुहार लुहारिन  

'अंत' में 'आइन' लगाकर  -
 
पुल्लिंग स्त्रीलिंग  
गुरु गुरुआइन 
चौधरी  चौधराइन  
चौबे  चौबाइन
ठाकुर    ठकुराइन 
द्विवेदी दुबेदाइन
दूबे दुबाइन
पंडा  पंडाइन 
पंडित     पंडिताइन       
बाबू   बबुआइन 
लाला      ललाइन
हलवाई          हलवाइन 

'अंत' में 'नी' लगाकर  -
 
पुल्लिंग स्त्रीलिंग  
ऊँट ऊँटनी
चाँद   चाँदनी
चोर      चोरनी 
जाट   जाटनी  
भाट भाटिनी
भील  भीलनी 
मास्टर  मास्टरनी 
मोर     मोरनी 
रीछ  रीछनी
शेर  शेरनी
सिंधी  सिंधवी 
सिंह     सिंहनी 
हंस         हंसनी 
हिरन  हिरनी

सदैव पुल्लिंग शब्द से स्त्रीलिंग बनाने के लिए 
'मादा' लगाकर  -

 
पुल्लिंग स्त्रीलिंग  
उल्लू      मादा उल्लू 
कौआ मादा कौआ
कछुआ   मादा कछुआ  
खरगोश       मादा खरगोश
खटमल         मादा खटमल
गैंडा  मादा गैंडा 
चीता  मादा चीता
तोता मादा तोता
भेड़िया   मादा भेड़िया  
भालू  मादा भालू 
मच्छर  मादा मच्छर 

सदैव स्त्रीलिंग शब्द से पुल्लिंग बनाने के लिए 
'नर' लगाकर  -

 
पुल्लिंग स्त्रीलिंग  
नर कोयल  कोयल 
नर चील  चील 
नर तितली  तितली 
नर मक्खी   मक्खी  
नर मछली  मछली 
नर मैना मैना

कुछ पुल्लिंग से स्त्रीलिंग शब्द  -
 
पुल्लिंग स्त्रीलिंग  
कवि          कवयित्री  
गाय बैल 
दूल्हा  दुल्हन 
नर मादा 
पति  पत्नी 
पिता  माता 
पुरुष  स्त्री 
बादशाह  बेगम 
बिलाव  बिल्ली 
बैल गाय 
भाई        बहन  
मर्द औरत 
युवा  युवती 
राजा       रानी 
वर वधू 
विद्वान विदुषी 
विधुर  विधवा 
वीर  वीरांगना 
सम्राट  सम्राज्ञी 
ससुर  सास 
साधु  साध्वी  

पुल्लिंग की पहचान 

1.  जिन शब्दों के अंत में आ, आव, पा, न, आर, आय, आस, ख आदि आते हैं और इकारांत शब्द आते हैं, प्रायः पुल्लिंग होते हैं | जैसे :- 
 
ताला, लोटा, मोटा, कमरा 
आव लगाव, बहाव
आर सुनार, विकार
आय अध्याय, समुदाय 
आस उल्लास, विकास 
अक पाठक, गायक, अध्यापक 
पा बुढ़ापा
पन लड़कपन, पागलपन 
न  पालन, दमन, गमन 
त्व अपनत्व, पुरुषत्व 
ख  मुख, लेख 
इकारांत शब्द माली, पुजारी, धोबी, नाई आदि 

2. पहाड़ों, महीनों, दिनों, तारों, ग्रहों, पर्वतों, अनाजों, रत्नों के नाम पुल्लिंग होते हैं | जैसे :-
 
पहाड़  हिमालय, कैलाश, एंडीज, आल्प्स 
दिन  सोमवार, मंगलवार, बुधवार 
महीना  चैत्र, आषाढ़, ज्येष्ठ 
ग्रह सूर्य, चंद्र, मंगल, शुक्र 
पेड़  पीपल, बड़, जामुन 
सागर  अरब सागर, हिन्द सागर 
रत्नों  हीरा, पन्ना, सोना
अनाज  गेहूँ, चावल, बाजरा 
शारीरिक अंगों के नाम  दिमाग, माथा, मुँह, हाथ, बाल, कान, नाक

3.  जिन शब्दों के अंत में खाना, दान, एरा, वाला आदि आते हैं वह प्रायः पुल्लिंग होते हैं | जैसे :- 
 
खाना  जेलखाना, हाथीखाना 
दान रोशनदान, फूलदान, पीकदान  
एरा  चचेरा, ममेरा, फुफेरा 
वाला  दूधवाला, फलवाला, सब्जीवाला

4. कुछ संज्ञा शब्द सदैव पुल्लिंग होते हैं | जैसे - चीता, तोता, खटमल, कौआ, सारस, भालू , बाज़, खरगोश आदि |

स्त्रीलिंग की पहचान 

1. जिन शब्दों के अंत में आहट, ता, इका, आई, आवट, इमा, आस, री आदि आते हैं और इकारांत शब्द आते हैं, वे प्रायः स्त्रीलिंग होते हैं | जैसे :- 
 
आहट मुसकराहट, घबराहट  
ता सुंदरता, लघुता 
इका नायिका, गायिका 
आई बुराई, खटाई, मलाई
आवट बनावट, सजावट  
इमा कालिमा, महिमा, लालिमा  
आस मिठास, भड़ास 
री कबूतरी, मठरी 
इकारांत शब्द प्रीती, रीति, चाबी, हँसी, रोटी, नदी, सरदी आदि 

2. महीनों, समय, तारों, तिथि, नदियों, झीलों, पहाड़ियों, भाषाओं, लिपियों, अनाजों, रत्नों के नाम स्त्रीलिंग होते हैं | जैसे :-
 
पहाड़  अरावली, नीलगिरि
समय  सुबह, रात, दोपहर, शाम
महीना  जनवरी, फरवरी, मार्च
तिथि एकादशी, अमावस्या, प्रतिपदा  
नदियों यमुना, गंगा, गोदावरी, झेलम
भाषाओं हिंदी, संस्कृत, तमिल,गुजरती   
लिपियों देवनागरी, रोमन, पाली 
रत्नों  चाँदी, मणि 
अनाज  ज्वारी, मक्की 
शारीरिक अंगों के नाम  आँख, नाक, कलाई, कोहनी, जीभ, उंगली, गरदन

3. कुछ संज्ञा शब्द सदैव स्त्रीलिंग होते हैं | जैसे - चील, मछली, लोमड़ी, तितली, कोयल, मक्खी आदि |

 ♦  हिंदी में कुछ शब्द पुल्लिंग- स्त्रीलिंग दोनों रूपों में प्रयुक्त होते हैं | जैसे :- प्रधानमंत्री, राष्ट्रपति, पत्रकार, फोटोग्राफर, चित्रकार आदि |
 

Hindi Grammar

time: 0.0303130150